Saturday, January 28, 2023
Saturday, January 28, 2023
HomeKaam ki BaatSukanya Samriddhi Yojana में हुए ये बदलाव, निवेश से पहले जानना है...

Sukanya Samriddhi Yojana में हुए ये बदलाव, निवेश से पहले जानना है जरूरी

- Advertisement -

Sukanya Samriddhi Yojana
इंडिया न्यूज, नई दिल्ली:
बेटियों के सुनहरे भविष्य के लिए सरकार की ओर से विभिन्न तरह की योजनाएं चल रही है। लेकिन आज हम बात करेंगे सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) के बारे में। इस योजना के अंतर्गत कुछ नियमों में बदलाव हुए हैं, जिनका आपके लिए जानना बहुत जरूरी है।

What is Sukanya Samriddhi Yojana

इस स्कीम के तहत महज 100 रुपये की रोजाना बजत पर आप अपने बेटियों के बहते भविष्य के लिए 15 लाख रुपये तक सुनिश्चित कर सकते हैं। इसके तहत 10 वर्ष के आयु से पहले बेटियों का खाता खोला जाता है। पहले बेटी 10 साल में ही खाते को आॅपरेट कर सकती थी लेकिन नए नियमों के तहत 18 साल की उम्र से पहले बेटी को खाता आॅपरेट करने की मंजूरी नहीं दी जाएगी। उससे पहले अभिभावक ही खाते को आॅपरेट करते रहेंगे।

इस स्कीम के तहत एक फैमिली से केवल दो ही बच्चियों का खाता खोला जा सकता है। अगर एक ही माता-पिता के तीन बच्चियां है तो इसमें से 2 ही बेटियों का खाता खोलने का प्रावधान है। इस स्कीम में बच्चियों के जन्म से 10 वर्ष की आयु के बीच में 250 रुपए जमा करने के साथ इस स्कीम से जुड़ सकते हैं।

Sukanya Samriddhi Yojana में ये हुए बदलाव

  1.  खाते में सालाना कम से कम 250 रुपये जमा करना जरूरी है। इस राशि के जमा नहीं होने पर अकाउंट को डिफॉल्ट मान लिया जाता है लेकिन नए नियमों के तहत अगर खाते को दोबारा एक्टिव नहीं किया जाता है तो मैच्योर होने तक खाते में जमा राश पर लागू दर से ब्याज मिलता रहेगा। पहले डिफॉल्ट खातों पर पोस्ट आॅफिस सेविंग्स अकाउंट के लिए लागू दर से ब्याज मिलता था।
  2. पहले सुकन्या समृद्धि योजना में दो बेटियों के खाते पर ही 80सी के तहत टैक्स छूट का लाभ मिलता था। लेकिन अब एक बेटी के बाद 2 जुड़वां बेटियां जन्म लेती हैं तो उन दोनों के लिए भी खाता खोलने का प्रावधान है।
  3. इस योजना के तहत खोले गए खाते को पहले दो परिस्थियों में बंद किया जा सकता था। पहला बेटी की मौत हो जाए तो और दूसरा बेटी के रहने का पता बदल जाए तब लेकिन अब खाताधारक की जानलेवा बीमारी को भी इसमें शामिल कर लिया गया है। अभिभावक की मौत होने पर भी समय से पहले अकाउंट बंद करने का प्रावधान किया गया है।

पोस्ट आफिस में खुलवा सकते हैं खाता

यह योजना में निवेश करने के लिए किसी भी बैंक या पोस्ट आॅफिस में अपना एकाउंट खुलवा सकते हैं। इस योजना में कम बचत में अधिक राशि मिलता है। यह योजना बेटियों को बढ़ावा देने में भी योगदान दे रही है। वहीं इसमें निवेश किए जाने वाले राशि बच्ची की 21 साल के उम्र में बच्ची खुद से पैसा निकाल सकती है।

साल में अधिकतम 1.5 लाख का निवेश ही संभव

चालू वित्त वर्ष में सुकन्या समृद्धि योजना के तहत सालाना अधिकतम 1.5 लाख रुपये तक जमा किये जा सकते हैं। वहीं इस पर 7.6 फीसदी ब्याज मिलेगा। इस योजना में जमा किये जाने वाली राशि 9 साल 4 महीने में डबल रोल हो जाती है।

हर माह 3 हजार का निवेश, मेच्योरिटी पर मिलेंगे 15 लाख

इस योजना में यदि आप प्रति महीने 3000 रुपये निवेश किये जाने पर आपको 7.6 फीसदी चक्रविधि ब्याज मिलेगा। इस प्रकार बच्चियों के 21 वर्ष की आयु होने पर कंपाउंड इंटरेस्ट समेत मेच्योरिटी करीब 15,22,221 रुपये की भारीभरकम रकम मिलेगी। इस से शादी-विवाह व शिक्षा में उपयोग किया जा सकता है।

Also Read : Bajaj Group के पूर्व चेयरमैन राहुल बजाज का निधन, पुणे में ली अंतिम सांस

Also Read : IPL Mega Auction 2022 10 टीमें और 600 खिलाड़ियों की होगी नीलामी

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

MOST POPULAR