Wednesday, February 8, 2023
Wednesday, February 8, 2023
HomeBusinessIndian In Ukraine भले ही यूक्रेन भीषण युद्ध से जुझ रहा हो...

Indian In Ukraine भले ही यूक्रेन भीषण युद्ध से जुझ रहा हो लेकिन भारतीयों के लिए अभी भी बना हुआ पंसदीदा देश, आखिर कौन हैं यह भारतीय?

- Advertisement -

इंडिया न्यूज,नई दिल्ली।

Indian In Ukraine: मौजूदा समय भले ही रूस और यूक्रेन में जारी भीषण युद्ध के बीच भारत वहां पर फंसे अपने 16 हजार नागारिकों को सुरक्षित वतन लाने का प्रयास शुरु कर दिया हो। लेकिन वर्तमान तक भारतीयों के लिए खासकर भारतीय छात्रों के लिए यूक्रेन काफी पंसदीदा देश रहा हैं। भारत के अधिकांश छात्र यूक्रेन में मेडिकल की पढ़ाई के जाते हैं। हालांकि यूक्रेन में उत्पन्न हुए संकट से वहां पहले से मौजूद करीब 14 हजार भारतीय छात्र स्वदेश वापस आने की राह देख रहे हैं। आखिर क्यों भारतीय छात्र यूक्रेन को मेडिकल की पढ़ाई के लिए चुनते हैं। इन्हीं मुद्दों पर डालते हैं एक नजर?

यूक्रेन में आता है 22 से 25 लाख तक खर्चा (Indian In Ukraine)

मौजूदा हालात में भले ही यूक्रेन में संकट के हालात बने हुए हैं। अगर भारतीयों से मेडिकल यानी डॉक्टरी की पढ़ाई करने के लिए पंसदीदा देश पूछेगें तो अधिकांश यूक्रेन को ही पंसद करेंगे। इसकी सबसे बड़ी वजह है वहां पर मेडिकल यानी डॉक्टर बनाने की होने वाली पूरी पढ़ाई का भारत के मुकाबले काफी सस्ता होना। जहां भारत में प्राइवेट कॉलेज से MBBS की डिग्री लेने में एक स्टूडेंट का खर्च लगभग 1 करोड़ रुपये तक बैठता है. तो वहीं, यूक्रेन में 6 साल की डॉक्टरी की पढ़ाई के लिए छात्र को 22 से 25 लाख रुपए खर्चा आता है।

मिलता है ग्लोबल एक्सपोजर (Indian In Ukraine)

वहीं, यूक्रेन से मिली डॉक्टरी की डिग्री की वैल्यू भारत के अलावा पूरी दुनिया में होती है। इतना ही नहीं, यहां पर पढ़े हुई छात्रों को ग्लोबल एक्सपोजर भी मिलता है। यूक्रेन की मेडिकल डिग्री को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO), यूरोपीय काउंसिल और अन्य वैश्विक संस्थाओं में मान्यता मिलती है।

मिल जाती है नेशनल मेडिकल कमीशन की मान्यता (Indian In Ukraine)

वहीं, यूक्रेन से की गई मेडिकल डिग्री को नेशनल मेडिकल कमीशन मान्यता देता है। ऐसे में मिडिल क्लास से संबंध रखने वाले छात्र यूक्रेन से सस्ते में मेडिकल डिग्री करके इंडिया लौट आते हैं। यहां आने के बाद उन्हें डॉक्टरी की इंटर्नशिप और प्रैक्टिस का लाइसेंस भी मिल जाता है। यूक्रेन से मेडिकल की पढ़ाई करने के बाद छात्रों को यूरोप में ही नौकरी करने का मौका मिलता है। इसके साथ वहां की नागारिता प्रदान करने का अवसर भी आसानी से प्राप्त होता है।

Also Read : श्रमिकों के लिए E-Shram Portal की शुरूआत, जानिए इसके फायदें

Also Read : LIC IPO की बड़ी खबर, कैबिनेट ने 20 प्रतिशत एफडीआई को दी मंजूरी

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

MOST POPULAR