Thursday, December 8, 2022
Thursday, December 8, 2022
HomeBusinessOperation Ganga के जरिए अब तक सुरक्षित लौटे एक हजार से अधिक...

Operation Ganga के जरिए अब तक सुरक्षित लौटे एक हजार से अधिक लोग: विदेश सचिव

- Advertisement -

Operation Ganga 

इंडिया न्यूज,नई दिल्ली। 

Ukraine Crisis: रूस द्वारा यूक्रेन पर किये गए सैन्य हमले के बीच यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों एवं नागरिकों को निकालने के लिए शुरू किये गये ऑपरेशन गंगा के तहत अब तक एक हजार से अधिक छात्र स्वदेश लौट चुके हैं और सरकार ने पूर्वी यूक्रेन में फंसे लोगों को माल्दोवा एवं रूस के रास्ते भी निकालने के प्रयास शुरू कर दिये हैं। यह बातें विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने रविवार को प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए दी।

 अन्य अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं मांगी गई मदद

प्रेस वार्ता ने विदेश सचिव श्रृंगला ने कहा कि उन्होंने स्वयं आज रूस एवं यूक्रेन के राजदूतों से मुलाकात करके वहां फंसे भारतीय नागरिकों एवं छात्रों की सुरक्षित निकासी को लेकर बात की है और दोनों राजदूतों ने इस बारे में अपने-अपने देश की ओर से पूरे सहयोग का आश्वासन दिया है। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय रेडक्रॉस एवं अन्य संगठनों से भी मदद का अनुरोध किया है।  श्रृंगला ने कहा, हमारे लिए भारत के हर नागरिक की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता है। हम सभी को सुरक्षित निकाल लाएंगे।

फंसे नागारिकों के संपर्क में है भारतीय दूतावास 

यूक्रेन के पूर्वी भाग खासकर खारकीव एवं सूमी में फंसे नागरिकों के बारे में विदेश सचिव ने कहा कि भारतीय दूतावास इन इलाकों में फंसे भारतीय छात्रों एवं नागरिकों के संपर्क में है। उनके लिए भोजन पानी की भी व्यवस्था की गयी है। चूंकि ये इलाके युद्धग्रस्त हैं इसलिए भारतीय लोगों को कहीं आने जाने की बजाए फिलहाल सुरक्षित स्थानों पर ही रहने की सलाह दी गयी है।

उन्होंने कहा कि अब तक चार उड़ानों से एक हजार से अधिक छात्र स्वदेश लौट चुके हैं और तथा करीब एक दर्जन अन्य उड़ानों का कार्यक्रम भी तय हो गया है। उन्होंने उम्मीद जतायी कि अगले दो तीन दिनों से यूक्रेन से तकरीबन सभी भारतीय नागरिक सुरक्षित बाहर निकाल लिये जाएंगे और कुछ दिनों में उन्हें स्वदेश पहुंचा दिया जाएगा।

स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर हो रही भारतीय छात्रों की मदद 

उन्होंने बताया कि यूक्रेन से रोमानिया, हंगरी, पोलैंड एवं स्लोवाकिया की सीमा पर आठ बिन्दुओं पर रूसी भाषा बोलने वाले भारतीय अधिकारियों की तैनाती की गयी है, जो स्थानीय प्रशासन के साथ समन्वय करके भारतीय छात्रों की मदद कर रहे हैं। इसबीच विदेश मंत्री एस जयशंकर ने माल्दोवा के विदेश मंत्री से भी टेलीफोन पर बात करके भारतीय छात्रों एवं अन्य नागरिकों को यूक्रेन से सुरक्षित निकालने में मदद का अनुरोध किया जिस पर उन्होंने सहमति दे दी है।

Also Read : Ukraine Crisis : एलन मस्क 200 अरब डॉलर के क्लब से बाहर

Also Read : PM High Level Meeting On Ukraine Crisis

Connect With Us: Twitter | Facebook |Instagram Youtube

SHARE
Koo bird

MOST POPULAR