Saturday, January 28, 2023
Saturday, January 28, 2023
HomeBusinessSunflower Oil यूक्रेन पर छाए संकट से प्रभावित हो रहा सूरजमुखी तेल...

Sunflower Oil यूक्रेन पर छाए संकट से प्रभावित हो रहा सूरजमुखी तेल का आयात, एसईए ने कहा: घरेलू आपूर्ति बनाए रखने तलाशा जा रहा विकल्प

- Advertisement -

इंडिया न्यूज,नई दिल्ली। 

Sunflower Oil: रूस और यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग पर उद्योग संगठन सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन (एसईए) अपनी चिंता प्रकट की है। एसईए ने कहा कि यूक्रेन और रूस के बीच जारी सैन्य युद्ध से सूरजमुखी तेल का आयात प्रभावित हो रहा है।

खुदरा कीमतों को नियंत्रण करने के लिए तलाश रहे दूसरा विकल्प  (Sunflower Oil)

एसईए ने कहा कि वह घरेलू आपूर्ति बनाए रखने और खुदरा कीमतों को नियंत्रण में रखने के लिए दूसरे देशों से खाद्य तेल आपूर्ति के विकल्प तलाश रहा है। हालांकि इससे जुड़े कारोबारियों की उम्मीद है कि खाद्य तेल की कीमतें स्थिर बनी रहेंगी। कीमतें स्थिर रहने की वजह सरसों की फसतल की कटाई बताया गया है। इससे अगले महीने से घरेलू बाजार में सरसों तेल की आपूर्ति में सुधार होगा।

सबसे ज्यादा सूरजमुखी तेल होता है यूक्रेन से आयात (Sunflower Oil)

वैश्विक कीमतों में तेज बढ़ोतरी के कारण भारत के खाद्य तेलों का कुल आयात 2020-21 के विपणन वर्ष (नवंबर से अक्टूबर) में पिछले वर्ष के मुकाबले 72,000 करोड़ रुपये से बढ़कर 1.17 लाख करोड़ रुपये हो गया। एसईए के कार्यकारी निदेशक बी वी मेहता ने  कहा कि रूस और यूक्रेन के बीच संघर्ष के कारण सूरजमुखी तेल की आपूर्ति बाधित हो गई है। भारत सालाना 25 लाख टन सूरजमुखी तेल का आयात करता है। इसमें  70 फीसदी यूक्रेन से, 20 फीसदी रूस से और 10 फीसदी अर्जेंटीना से आता है।

खाद्य तेल 65 फीसदी है निर्भरता (Sunflower Oil)

उन्होंने कहा कि मासिक आधार पर लगभग दो लाख टन सूरजमुखी तेल का आयात किया जाता है। अंतरराष्ट्रीय बाजारों में पाम तेल और सोयाबीन तेल की कीमतों में तेजी का दबाव है। उन्होंने कहा कि खाद्य तेल आयात पर हमारी निर्भरता 65 प्रतिशत है, इसलिए हम अपनी घरेलू आपूर्ति श्रृंखला को बनाए रखने और स्थानीय खुदरा कीमतों को स्थिर रखने के लिए दूसरे देशों से खाद्य तेल हासिल करने की सभी संभावनाएं तलाश रहे हैं।

Also Read : श्रमिकों के लिए E-Shram Portal की शुरूआत, जानिए इसके फायदें

Also Read : LIC IPO की बड़ी खबर, कैबिनेट ने 20 प्रतिशत एफडीआई को दी मंजूरी

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtub

MOST POPULAR