Tuesday, December 6, 2022
Tuesday, December 6, 2022
HomeBusinessरेलवे ने माल ढुलाई में बनाया सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड, जुलाई में की इतने...

रेलवे ने माल ढुलाई में बनाया सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड, जुलाई में की इतने मीट्रिक टन की माल-लदान

- Advertisement -

Railways Best Record 

इंडिया न्यूज,नई दिल्ली। भारतीय रेल ने माल ढुलाई पर अब तक अपना सबसे सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड बनाया है। भारतीय रेल ने जुलाई 2022 में 122.14 मीट्रिक टन माल-लदान करके जुलाई महीने में किये जाने वाले कामकाज में अब तक का सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड कायम किया है। जुलाई माह में क्रमागत माल-लदान 9.3 मीट्रिक टन रहा, यानी 2021 में अर्जित जुलाई के सर्वश्रेष्ठ आंकड़ों की तुलना में 8.25 प्रतिशत अधिक है। इसके साथ ही भारतीय रेल ने मासिक माल-लदान में लगातार 23 महीने तक अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

 कोयला की सर्वाधिक लदान

रेल मंत्रालय ने बुधवार को बताया कि जुलाई 2022 में कोयले की 11.45 मीट्रिक टन, अन्य माल 1.22 मीट्रिक टन, 0.56 मीट्रिक टन सीमेंट व बजरी और कंटेनर तथा पीओएल 0.47 मीट्रिक टन माल-लदान की है।

मोटर-वाहन की लदाई में आई 71 फीसदी की वृद्धि

मंत्रालय ने बताया कि रेलवे ने मोटर-वाहन की लदाई में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई। वित्तवर्ष 2022-23 में माल-व्यापार का यह एक अन्य उदाहरण है। इस वित्त वर्ष में रेलवे ने 1698 रेकों में माल लादा है। इससे पहले जुलाई 2021 में यह आंकड़ा 994 रेकों का था,जोकि इसमें इस साल 71 फीसदी की वृद्धि दर्ज हुई है। इसके अलावा भारतीय रेलवे ने 1 अप्रैल, 2022 से 31 जुलाई, 2022 तक समग्र माल-लदाई 501.53 मीट्रिक टन हुई है,जोकि पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष 10.92 फीसदी बढ़ा है। पिछले जुलाई 2021 यह आंकड़ा 452.13 मीट्रिक टन पर था।

कोयला ढुलाई में 32 फीसदी का इजाफा

वहीं, शुद्ध टन किलोमीटर (एनटीकेएम) के हिसाब से देखा जाये तो इस मद में जुलाई 2021 में 63.3 अरब की तुलना में जुलाई 2022 में यह 75 अरब रहा है। इस दौरान इस साल इसमें रेलवे ने 19.36 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। रेल मंत्रालय ने बताया कि देश में बिजली आपूर्ति लगातार बनी रही इसके लिए रेलवे ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। बिजली घरों तक कोयले की लदान (घरेलू और आयातित, दोनों) जुलाई में 13.2 मीट्रिक टन बढ़ी, जबकि पिछले वर्ष बिजली घरों तक 34.74 मीट्रिक टन कोयला पहुंचाया गया था। इस साल इसमें 32 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोतरी हुई है।

इसको भी पढ़ें:

स्टार्ट-अप्स को मान्यता देने पर भारत दुनिया में नंबर वन, 75 हजार से अधिक स्टार्ट-अप्स मान्य, 7 लाख रोजगार हुए पैदा

इसे पढ़ें: बीएसई के प्रमुख पद से आशीष कुमार चौहान कार्यमुक्त, अब एनएसई की संभालेंगे कमान

Connect With Us: Twitter | Facebook |Instagram Youtube

SHARE
Koo bird

MOST POPULAR