Monday, May 23, 2022
Monday, May 23, 2022
HomeBusinessआयुष क्षेत्र में निवेश और नवाचार की हैं असीमित संभावनाएं : मोदी...

आयुष क्षेत्र में निवेश और नवाचार की हैं असीमित संभावनाएं : मोदी Inauguration 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गांधीनगर में आयुष एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल का उद्घाटन किया।

इंडिया न्यूज, गुजरात। 

पीएम नरेन्द्र मोदी के तीन दिवसीय गुजरात (PM Narendra Modi in Gujarat) दौरे का बुधवार को आखिरी दिन है। दौरे के आखिरी दिन पीएम मोदी ने आज गांधीनगर स्थित महात्मा मंदिर में आयोजित ग्लोबल आयुष इन्वेस्टमेंट एंड इनोवेशन समिट का उद्घाटन  (Inauguration) किया। इस उद्धाटन समारोह में पीएम मोदी के साथ डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस घेब्रेयसस और मारीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ भी मौजूद रहे। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि आयुष के क्षेत्र में निवेश और नवाचार की संभावनाएं असीमित हैं।

आयुष उद्योग 18 बिलियन के पार

प्रधानमंत्री ने कहा कि आयुष दवाओं, सप्लीमेंट और कॉस्मेटिक्स के उत्पादन में हम पहले ही अभूतपूर्व तेज़ी देख रहे हैं। 2014 में जहां आयुष सेक्टर 3 बिलियन डॉलर से भी कम का था। वही आज ये बढ़कर 18 बिलियन डॉलर के पार चलगा गया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत एक स्पेशल आयुष मार्क भी बनाने जा रहा है।भारत में बने उच्चतम गुणवत्ता के आयुष प्रॉडक्ट्स पर ये मार्क लगाया जाएगा। ये आयुष मार्क आधुनिक टेक्नोलॉजी के प्रावधानों से युक्त होगा। इससे विश्व भर के लोगों को क्वालिटी आयुष प्रॉडक्ट्स का भरोसा मिलेगा।

शुरु होगा विशेष आयुष वीजा कैटेगरी

उन्होंने कहा कि जो भी विदेशी नागरिक भारत में आकर आयुष चिकित्सा का लाभ लेना चाहते हैं, उनके लिए सरकार एक और पहल कर रही है। शीघ्र ही, भारत एक विशेष आयुष वीजा कैटेगरी शुरू करने जा रहा है। इससे लोगों को आयुष चिकित्सा के लिए भारत आने-जाने में सहूलियत होगी। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी का भारत दुनिया को अपने अनुभवों, ज्ञान,अपनी जानकारी साझा कर आगे ले जाना चाहता है। हम वसुधैव कुटुंबकम वाले लोग हैं, ‘सर्वे संतु निरामया’ यही तो हमारा जीवन मंत्र है।

औषधि के ज्ञान को बचाने के लिए दें बढ़ावा

कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जुगनाथ ने भी इसको संबोधित किया और इस शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेना गर्व की बात कही। उन्होंने कहा कि WHO के मुताबिक विश्व में 80 प्रतिशत लोग पारंपरिक औषधि का इस्तेमाल करते हैं। इस औषधि के ज्ञान का सम्मान ही नहीं करना चाहिए, बल्कि उसे बचाना और उसको बढ़ावा भी देना चाहिए।

शिखर सम्मेलन चलेगा तीन दिन (Inauguration) 

ये शिखर सम्मेलन तीन दिन तक चलेगा। इस शिखर सम्मेलन में लगभग 90 प्रख्यात वक्ताओं और 100 प्रदर्शकों की उपस्थिति के साथ पांच पूर्ण सत्र, आठ गोलमेज सम्मेलन, छह कार्यशालाएं और दो संगोष्ठियां होंगी। शिखर सम्मेलन निवेश क्षमता को उजागर करने में मदद करेगा। यह नवाचार, अनुसंधान और विकास, स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी तंत्र और कल्याण उद्योग को बढ़ावा देगा। सम्मेलन के दौरान परंपरागत चिकित्सा व्यवस्था को बढ़ावा देने के उपायों पर विचार-विमर्श किया जाएगा। इस सम्मेलन का उद्देश्य बेहतर निवेश आकर्षित कर देश को ग्लोबल आयुष केंद्र बनाना है।

Also Read : पेट्रोल डीजल के दाम स्थिर, फिर भी इस राज्य में बिक रहा सबसे महंगा तेल, फटाफट चेक करें अपने शहर का दाम? Today Vehicle Fuel Prices

Also Read :  दूसरे दिन शेयर बाजार में आई तेजी, सेंसेक्स 237 व निफ्टी 78 अंक चढ़े, HDFC ट्विंस टॉप लूजर्स Stock Market Rise Today

Also Read : कोरोना का ताजा अपडेट: 24 घंटों में भारत में सामने आए 975 नए केस, 4 की मौत Corona Latest Update

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE

MOST POPULAR