Saturday, May 21, 2022
Saturday, May 21, 2022
HomeBusinessITT KANPUR Got Rs 100 Crore Financial Amount: इंडिगो के को-फाउंडर गंगवाल...

ITT KANPUR Got Rs 100 Crore Financial Amount: इंडिगो के को-फाउंडर गंगवाल ने दिया ITT KANPUR को 100 करोड़ रुपये, जानिए किस स्कूल के लिए की मदद

इंडिया न्यूज,नई दिल्ली। 

ITT KANPUR Got Rs 100 Crore Financial Amount: एयरलाइन इंडिगो के को-फाउंडर और आईआईटी कानपुर के पूर्व छात्र राकेश गंगवाल कल से भारतीय मीडिया में सुर्खियों में बने हुए हैं। इसके पीछे की वजह उनका व्यक्तिगत रूप से दान है। गंगवाल ने कानपुर आईआईटी के अल्मा मेटर में स्कूल ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी का सपोर्ट करने के लिए 100 करोड़ रुपये आर्थिक सहायता प्रदान की है। इस बात की पुष्टि आईआईटी कानपुर के निदेशक अभय करंदीकर ने की है।

करंदीकर ने ट्वीट कर दी जानकारी

आईआईटी कानपुर के निदेशक करंदीकर ने ट्वीट कर  इसकी जानकारी देते हुए कहा कियहां आईआईटी कानपुर से बड़ी खबर है। हमारे पूर्व छात्र और इंडिगो एयरलाइंस के सह-संस्थापक राकेश गंगवाल ने 100 करोड़ रुपये के योगदान के साथ सबसे बड़ा व्यक्तिगत दान दिया है, जो स्कूल ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी आईआईटी कानपुर को समर्थन देने पर केंद्रित है।

गंगवाल शामिल होंगे संस्थान के सलाहकार बोर्ड में

गंगवाल ने आईआईटी कानपुर कैंपस में चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी स्कूल स्थापित करने के लिए आईआईटी कानपुर के साथ एक समझौते पर भी हस्ताक्षर किए हैं। जल्दी इंडिगो के सह-संस्थापक संस्थान के सलाहकार बोर्ड में शामिल होंगे।

संस्था से जुड़ना मेरे लिए सौभाग्य की बात

मीडिया  से बात करते हुए इंडिगो के को-फाउंडर ने कहा कि अपनी मातृ संस्था के साथ इस तरह के नेक प्रयास से जुड़ना मेरे लिए सौभाग्य की बात है। मुझे यह देखकर गर्व हो रहा है कि विभिन्न क्षेत्रों में हजारों नेता पैदा करने वाली संस्था अब स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में मार्ग प्रशस्त कर रही है। यह स्कूल स्वास्थ्य सेवा में नवाचार को गति दे रहा है.”

दो चरणों में बनेगा स्कूल (ITT KANPUR Got Rs 100 Crore Financial Amount)

स्कूल ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी का निर्माण कानपुर आईआईटी के परिसर में ही किया जा रहा है। यह यह स्कूल दो चरणों में बनकर तैयार होगा। इसके पहले चरण में लगभग 8,10,000 वर्ग फुट के कुल निर्मित क्षेत्र के साथ 500-बेड का सुपर-स्पेशियलिटी अस्पताल, शैक्षणिक ब्लॉक, आवासीय हॉस्टल और सर्विस ब्लॉक की स्थापना शामिल होगी। इसमें फ्यूचरिस्टिक मेडिसिन में अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (सीओई) की स्थापना भी शामिल होगी और इसे 3-5 साल में पूरा करने की योजना है,जबकि इसका दूसरा चरण को 7-10 साल में पूरा करने की योजना है और अस्पताल की क्षमता 1,000 बिस्तरों तक बढ़ने की उम्मीद है।

Also Read : देश में बेरोजगारी दर घटकर 7.6 फीसदी पर आई, सबसे ज्यादा बेरोजगारी 26.7 फीसदी हरियाणा में

Also Read : एचडीएफसी का एचडीएफसी बैंक में विलय से बाजार में भरा जोश, सेंसेक्स 1500 अंक उछला, निफ्टी ने तोड़ा 18000 का लेवल

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE

MOST POPULAR