Tuesday, May 24, 2022
Tuesday, May 24, 2022
HomeBusinessIndian Economy Growth : मौजूदा वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था 7.5 फीसदी...

Indian Economy Growth : मौजूदा वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था 7.5 फीसदी की दर से बढ़ने का अनुमान

Indian Economy Growth

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली:
चालू वित्त वर्ष 2022-23 में भारत की विकास दर 7.5 फीसदी रह सकती है। यह अनुमान एशियाई विकास बैंक (Asian Development Bank Report) ने जताया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक चालू वित्त वर्ष में दक्षिण एशियाई देशों की विकास दर 7 फीसदी की दर से बढ़ेगी लेकिन भारतीय अर्थव्यवस्था के इस साल 7.5 फीसदी बढ़ने का अनुमान है।

जानना जरूरी है कि दक्षिण एशियाई देशों में भारतीय अर्थव्यवस्था सबसे बड़ी है। दक्षिण एशियाई क्षेत्र में विकास की गतिशीलता काफी हद तक भारत और पाकिस्तान पर निर्भर करती है। मनीला स्थित मल्टी-लेटरल फंडिंग एजेंसी ने अपनी एडीओ रिपोर्ट में कहा कि इसके अगले वित्त वर्ष में भारत की विकास दर 8 फीसदी बढ़ने का अनुमान है।

(Indian Economy Growth) दक्षिण एशियाई अर्थव्यवस्थाओं के 2022 में सामूहिक रूप से 7 फीसदी और 2023 में 7.4 फीसदी तक बढ़ने की उम्मीद है। दक्षिण एशिया में अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, भारत, मालदीव, नेपाल, पाकिस्तान और श्रीलंका आते हैं। एशियाई विकास बैंक (ADB) की रिपोर्ट के मुताबिक मनीला की मल्टी-लैटरल फंडिंग एजेंसी का अनुमान है कि 2022 में दक्षिण एशियाई देशों की अर्थव्यवस्था 7 फीसदी की सुस्त गति से बढ़ेगी और अगले साल 2023 में यह 7.3 फीसदी की दर से बढ़ेगी।

कई एजेंसियों ने घटाया अनुमान (Indian Economy Growth)

वहीं रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध को एक महीने से भी ज्यादा का वक्त हो गया है जिस कारण महंगाई का असर पूरे विश्व पर पड़ रहा है। इस कारण तमाम रेटिंग एजेंसियों ने भारत की विकास दर को अपने अनुमान में घटाया था।

पाकिस्तान की वृद्धि 4 प्रतिशत तक रहने का अनुमान (Indian Economy Growth)

Asian Development Bank Report के अनुसार, वित्त वर्ष 2023 में 7.4 प्रतिशत तक पहुंचने से पहले दक्षिण एशिया में विकास दर धीमी होकर 7 फीसदी तक रहने का अनुमान है। रिपोर्ट के मुताबिक 2023 में 4.5 फीसदी तक बढ़ने से पहले कमजोर घरेलू मांग के कारण पाकिस्तान की वृद्धि 2022 में मध्यम से 4 प्रतिशत तक रहने का अनुमान है।

एडीबी ने कहा कि विकासशील एशिया की अर्थव्यवस्थाओं में घरेलू मांग में मजबूत सुधार और निर्यात में निरंतर विस्तार के कारण इस साल 5.2 प्रतिशत और 2023 में 5.3 प्रतिशत वृद्धि होने का अनुमान है।

Also Read : Paytm के शेयर में आई 5 प्रतिशत की तेजी, जानें वजह

Also Read : 16 दिनों में 9.96 रुपए प्रति लीटर बढ़े पेट्रोल के दाम, सीएनजी भी हुई 2.5 रुपए महंगी

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE

MOST POPULAR