Tuesday, May 24, 2022
Tuesday, May 24, 2022
HomeBusinessगैर-बासमती चावल मामलें में भारत ने हासिल की उपलब्धि, बीते एक वर्ष...

गैर-बासमती चावल मामलें में भारत ने हासिल की उपलब्धि, बीते एक वर्ष किया 6115 मिलियन डॉलर का निर्यात Non Basmati Rice

इंडिया न्यूज,नई दिल्ली। 

भारत गैर-बासमती चावल के निर्यात पर बड़ी उपलब्धि हासिल की है। भारत ने वित्त वर्ष 2021-22 में 6115 मिलियन डॉलर गैर-बासमती चावल (Non Basmati Rice) का निर्यात किया है। इससे पहले वित्त वर्ष 2013-14 के 2925 मिलियन डॉलर निर्यात किया था,जोकि वित्त वर्ष 2013-14 की तुलना में इस वर्ष 109 प्रतिशत का उछाल है। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय की ओर से यह जानकारी दी गई है।

150 देशों में किया गया निर्यात

डीजीसीआईएस आंकड़ों के अनुसार, भारत ने पिछळे वित्त वर्ष में दुनिया भर के 150 से अधिक देशों को चावल का निर्यात किया। भारत ने वित्त वर्ष 2021-22 में रिपोर्ट किए गए 150 से अधिक देशों में से 76 देशों को एक मिलियन डॉलर से अधिक का निर्यात किया, जो पिछले कई वर्षों के दौरान भारत के चावल निर्यात के विविधीकरण को इंगित करता है।

केंद्रीय मंत्री गोयल ने किया ट्वीट

एक ट्वीट में इस ऐतिहासिक उपलब्धि को रेखांकित करते हुए, केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग, उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण तथा कपड़ा मंत्री श्री पीयूष गोयल ने कहा कि मोदी सरकार की नीतियां किसानों को वैश्विक बाजार तक पहुंच प्राप्त करने एवं खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने में भी सहायता कर रही हैं।

डीजीसीआईएस आंकड़ों के अनुसार, भारत ने वित्त वर्ष 2019-20 में 2015 मिलियन डॉलर के बराबर के गैर बासमती चावल का निर्यात किया था, जो बढ़ कर वित्त वर्ष 2020-21 में 4799 मिलियन डॉलर तथा वित्त वर्ष 2021-22 में 6115 मिलियन डॉलर तक पहुंच गया। गैर बासमती चावल का निर्यात वित्त वर्ष 2021-22 में 27 प्रतिशत की वृद्धि तथा 6115 मिलियन डॉलर अर्जित करने के साथ सभी कृषि वस्तुओं के बीच सबसे अधिक विदेशी मुद्रा अर्जित करने वाला क्षेत्र रहा।

पिछले वित्त विर्ष में पहली बार किया 9 देशों को निर्यात

पश्चिमी अफ्रीकी देश बेनिन भारत से गैर बासमती चावल के प्रमुख आयातक देशों में से एक है। अन्य गंतव्य देश नेपाल, बांग्लादेश, चीन, कोट डी आवोआयर, टोगो, सेनेगल, गिनी, वियतनाम, जिबोटी, मेडागास्कर, कैमरून, सोमालिया, मलेशिया, लाइबेरिया, संयुक्त अरब अमीरात आदि हैं। वहीं,  वित्त वर्ष 2020-21 में, भारत ने नौ देशों- तिमोर-लेस्टे, प्यूओर्टो रिको, ब्राजील, पपुआ न्यू गिनी, जिम्‍बाब्‍वे, बुरुंडी, एस्वाटिंनी, म्यांमार तथा निकारगुआ को गैर बासमती चावल का निर्यात किया जहां पहली बार निर्यात किया गया था।

भारत के चावल उत्पादक राज्य  (Non Basmati Rice)

उल्लेखनीय है कि भारत चीन के बाद विश्व का दूसरा सबसे बड़ा चावल उत्पादक देश है। भातर के प्रमुख चावल उत्पादक राज्य पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, पंजाब, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, ओडिशा, असम तथा हरियाणा हैं। कृषि निर्यात में उल्लेखनीय वृद्धि को देश के कृषि तथा प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने के माध्यम से किसानों की आय बढ़ाने की सरकार की प्रतिबद्धता के प्रमाण के रूप में देखा जा रहा है।

Also Read : आयुष क्षेत्र में निवेश और नवाचार की हैं असीमित संभावनाएं : मोदी Inauguration 

Also Read : रुके हुए हैं पेट्रोल डीजल के दाम, फटाफट चेक करें अपने शहर का रेट्स Petrol Diesel Price Today 

Also Read : कोरोना का ताजा अपडेट: 24 घंटों में भारत में सामने आए 975 नए केस, 4 की मौत Corona Latest Update

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE

MOST POPULAR