Tuesday, May 24, 2022
Tuesday, May 24, 2022
HomeBusinessजॉर्जीवा ने भारत की आर्थिक नीतियों की प्रशंसा, सीतारमण ने बैठक में...

जॉर्जीवा ने भारत की आर्थिक नीतियों की प्रशंसा, सीतारमण ने बैठक में उठाया श्रीलंका के आर्थिक संकट का मुद्दा  Spring Meeting Of IMF-WB

आईएमएफ- डब्ल्यूबी की बैठक में वित्त मंत्री द्वारा श्रीलंका संकट के मुद्दा उठाने के बाद आईएमएफ रखेगा सक्रिय रूप से संर्पक। हाल की भू-राजनीतिक घटनाओं पर भी सीतारमण व जॉर्जीवा के बीच हुई चर्चा

इंडिया न्यूज,वाशिंगटन डीसी 

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष-विश्व बैंक (आईएमएफ- डब्ल्यूबी) स्प्रिंग मीटिंग (Spring Meeting Of IMF-WB) के दौरान अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की प्रबंध निदेशक क्रिस्टालिना जॉर्जीवा के साथ द्विपक्षीय बैठक की। दोनों के बीच यह बैठक वाशिंगटन डीसी में हुई है। बैठक में भारत के महत्वपूर्ण मुद्दों के अलावा वैश्विक और क्षेत्रीय अर्थव्यवस्थाओं द्वारा वर्तमान में सामना की विभिन्न चुनौतियों पर चर्चा की गई है। इस चर्चा में आईएमएफ की प्रबंध निदेशक जॉर्जीवा ने भारत के टीकाकरण कार्यक्रम तथा अपने पड़ोसी और अन्य कमजोर अर्थव्यवस्थाओं को दी गई सहायता की जमकर प्रशंसा की।

इसके अलावा बैठक वित्त मंत्री के साथ हुई जॉर्जीवा ने भारत की कठिनाइयों से उबरने की क्षमता को रेखांकित के साथ भारत द्वारा लागू की गयी एक मिश्रित नीति का उल्लेख किया, जो प्रभावी थी और जिसे अच्छी तरह से लक्षित किया गया था। उन्होंने आईएमएफ की क्षमता-विकास गतिविधियों में योगदान के लिए भारत की सराहना भी की।

आईएमएफ श्रीलंका से जारी रखेगा सक्रिय रूप से संर्पक

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष-विश्व बैंक की स्प्रिंग मीटिंग में वित्त मंत्री सीतारमण ने अपने पड़ोसी देश श्रीलंका पर उत्पन्न हुए आर्थिक संकट का मुद्दा उठाया और उसका तत्काल वित्तीय सहायता प्रदान करने की सिफारिश की। इस पर, जॉर्जीवा ने आश्वान दिया कि आईएमएफ श्रीलंका के साथ सक्रिय रूप से संपर्क जारी रखेगा।

Spring Meeting Of IMF-WB

मौजूदा भू-राजनीतिक घटनाओं पर हुई चर्चा

हाल की भू-राजनीतिक घटनाओं पर चर्चा करते हुए सीतारमन और जॉर्जीवा ने वैश्विक अर्थव्यवस्था पर इनके प्रभाव और इनके कारण ऊर्जा की बढ़ती कीमतों से जुड़ी चुनौतियों को लेकर चिंता व्यक्त की। केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा कि भारत के नीतिगत दृष्टिकोण की व्याख्या करते हुए कहा कि  एक समावेशी राजकोषीय स्वरुप के लिए संरचनात्मक सुधार किये गए, जिनमें दिवालियापन संहिता और एमएसएमई व अन्य कमजोर वर्गों के लिए लक्षित सहायता शामिल हैं।

नई आर्थिक गतिविधियों की भारत कर रहा शुरुआत

वित्त मंत्री ने आगे कहा कि भारत को अच्छे कृषि उत्पादन से मदद मिली है। कोविड महामारी के दौरान अच्छे मानसून से कृषि को समर्थन मिला। अन्य निर्यातों के साथ-साथ कृषि निर्यात में भी तेजी से वृद्धि हुई है। भारत नई आर्थिक गतिविधियों की शुरुआत कर रहा है, जो वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला से जुड़े कुछ मुद्दों को हल करने में मदद करेंगी।

बैठक में यह लोग रहे मौजूद (Spring Meeting Of IMF-WB)

वित्त मंत्री और प्रबंध निदेशक दोनों के साथ वरिष्ठ अधिकारीगण अनंत वी. नागेश्वरन, मुख्य आर्थिक सलाहकार, वित्त मंत्रालय, भारत सरकार और गीता गोपीनाथ, एफडीएमडी, आईएमएफ भी मौजूद थे।

Also Read : पेट्रोल डीजल के दाम स्थिर, फिर भी इस राज्य में बिक रहा सबसे महंगा तेल, फटाफट चेक करें अपने शहर का दाम? Today Vehicle Fuel Prices

Also Read :  दूसरे दिन शेयर बाजार में आई तेजी, सेंसेक्स 237 व निफ्टी 78 अंक चढ़े, HDFC ट्विंस टॉप लूजर्स Stock Market Rise Today

Also Read : कोरोना का ताजा अपडेट: 24 घंटों में भारत में सामने आए 975 नए केस, 4 की मौत Corona Latest Update

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE

MOST POPULAR