Wednesday, August 10, 2022
Wednesday, August 10, 2022
HomeBusinessयूरोपीय केंद्रीय बैंक ने नीतिगत दर में की वृद्धि, 11 साल बाद...

यूरोपीय केंद्रीय बैंक ने नीतिगत दर में की वृद्धि, 11 साल बाद हुई 0.50 फीसदी वृद्धि

ECB Rate Hike

इंडिया न्यूज,नई दिल्ली। रुस द्वारा यूक्रेन पर किए गए हमले के बाद से जारी दोनों के बीच जारी युद्ध अभी भी खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले पांच महीने से जारी यह युद्ध दुनिया की अर्थव्यवस्था को हला कर रखा दिया है। इस आलम यह है कि दुनिया के कई देशों में महंगाई अपने चरम सीमा पर पहुंच गई है और इसको कंट्रोल करने लिए तमाम देशों की केंद्रीय बैंक अपने ब्याज दरों में इजाफा कर रही हैं। हाल ही में भारत की आरबीआई और अमेरिका की फेडरल बैंक ने अपने यहां ब्याज दरों में इजाफा कर चुकी हैं। इस कड़ी ने यूरोपीय केंद्रीय बैंक शामिल हो गई है।

उम्मीद से ज्याद बढ़े ब्याज दर

यूरोपियन सेंट्रल बैंक ने नीतिगत दर में बढ़ोतरी कर दी है। यह बढ़ोतरी 0.50 फीसदी की दर से ब्याज दरों में इजाफा हुई है। यूरोपीय केंद्रीय बैंक ने नीतिगत दर में बढ़ोतरी 11 साल बाद की है, जोकि उम्मीद से ज्यादा की हुई है। ईसीबी की पिछली बैठक में ही ब्याज दरों की वृद्धि के संकेत मिल गये थे। अब केंद्रीय बैंक ने 50 प्वाइंट आधार की वृद्धि कर दी है। सेंट्रल बैंक के इस कदम के बाद से ग्राहकों को कर्ज लेना और महंगा हो गया है।

जारी हुआ नया बॉन्ड खरीद प्रोग्राम

इसके अलावा यूरोपियन सेंट्रल बैंक ने एक नया बॉन्ड खरीद प्रोग्राम को भी लॉन्च किया है। बैंक के इसको लाने का पीछे का लक्ष्य यूरो जोन (Euro Zone) के सबसे अधिक कर्ज में डूबे देशों के लिए उधार की लागत को नियंत्रण करना है। सेंट्रल बैंक के इस कदम के बाद से शेयर बाजार और बॉन्ड मार्केट में गिरावट आना शुरू हो गई है।

नीतिगत दर में वृद्धि सही कदम

इस पर ईसीबी ने कहा कि मुद्रास्फीति के जोखिम को देखते हुए नीतिगत दर में 0.5 प्रतिशत का इजाफा करना एक सही कदम है। नीतिगत ब्याज दरों में बढ़ोतरी सिलसिला अभी खत्म नहीं हुआ है। अगले सितंबर आयोजित होने वाली मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में भी ब्याज दरों की वृद्धि का फैसला लिया जा सकता है।

ईसीबी की अध्यक्ष क्रिस्टीन लेगार्ड ने कही यह बात

नीतिगत ब्याज दर में इजाफा करने के बाद ईसीबी की अध्यक्ष क्रिस्टीन लेगार्ड ने एक प्रेस वार्ता को संबोधित किया। इस प्रेसवार्ता में उन्होंने कहा कि आर्थिक गतिविधियां धीमी हो रही हैं। रूस का यूक्रेन पर हमले का असर वृद्धि पर पड़ा है। ऊंची महंगाई के क्रय शक्ति पर पड़ने वाले प्रतिकूल प्रभाव, आपूर्ति के मोर्चे पर बाधाएं जारी रहने और अनिश्चिता बने रहने से अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है।

RBI Monetary Policy: महंगाई को देखते हुए RBI ने बढ़ाया रेपो रेट, 0.50 फीसदी का किया इजाफा

इसे पढ़ें: नहीं रहे पद्म भूषण से सम्मानित देश के दिग्गज कारोबारी पालोनजी मिस्त्री, मुंबई में ली आखिरी सांस

Connect With Us: Twitter | Facebook Youtube
SHARE
Koo bird

MOST POPULAR