Thursday, December 8, 2022
Thursday, December 8, 2022
HomeBusinessहोल्सिम लिमिटेड से हटकर अब अडानी ग्रुप में वियल होगी अंबुजा सीमेंट्स...

होल्सिम लिमिटेड से हटकर अब अडानी ग्रुप में वियल होगी अंबुजा सीमेंट्स व एसीसी, 10.5 अरब डॉलर की हुई डील, जानें पूरी डिटेल

- Advertisement -

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली। Deal Between Adani Group and Holcim: आने वाले समय अब भारत की दो प्रमुख सीमेंट कंपनियां अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड और एसीसी देश की होने वाले हैं। अभी तक इन कंपनियों में विदेशी कंपनी का अधिग्रहण था,लेकिन अब भारतीय का होने वाला है। दुनिया के 5वें नंबर और भारत के प्रमुख रईस व उद्योगपति गौतम अडानी ने होल्सिम लिमिटेड से अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड और एसीसी को पूरा अधिग्रहण करने जा रहे हैं। होल्सिम लिमिटेड और अडानी ग्रुप के बीच यह अधिग्रहण करीब 10.5 अरब डॉलर बताया जा रहा है। इस अधिग्रहण के पूरा होते ही अडानी ग्रुप सीमेंट उद्योग में प्रवेश कर लेगा। हालांकि अभी रेगुलेटरी अप्रूवल मिलना बाकी है।

17 साल से होल्सिम कर रही भारत में कारोबार

होल्सिम लिमिटेड विश्व में सीमेंट उद्योग का सबसे बड़ा कारोबार करती है और यह  सबसे बड़ी सीमेंट कंपनी भी है। इस कंपनी की भारत के दो सबसे बड़ी सीमेंट कंपनी  अंबुजा सीमेंट्स में 63.19 फीसदी और ACC में 54.53 फीसदी हिस्सेदारी है, जिसमें से 50.05 फीसदी अंबुजा सीमेंट्स के पास है। होल्सिम ग्रुप भारत में करीब 17 साल से कारोबार कर रहा है। इस डील के पूरा होती है होल्सिम भारत से अपना कारोबार पूरी तरह समेट लेगी। अडानी ग्रुप के साथ हुई डील पर होलसिम लिमिटेड के CEO जॉन जेनिश ने कहा, ‘मुझे खुशी है कि अडानी ग्रुप ग्रोथ के नेक्सट एरा को लीड करने के लिए भारत में हमारे कारोबार का अधिग्रहण कर रहा है।

इन्होंने की अंबुजा और एसीसी की स्थापान

अंबुजा सीमेंट की स्थापना 1983 में नरोत्तम सेखसरिया और सुरेश नियोतिया ने की थी। दोनों ट्रेडर्स के पास सीमेंट या मैन्युफैक्चरिंग उतना नहीं था लेकिन उन्हें यह अनुमान था का कि भारत जैसी विकासशील अर्थव्यवस्था के लिए सीमेंट एक महत्वपूर्ण संसाधन होगा। वहीं, ACC यानी एसोसिएटेड सीमेंट कंपनीज की स्थापना  1 अगस्त 1936 को मुंबई में हुई थी। हालांकि इसकी स्थापना में कई ग्रुप शामिल थे। यह दोनों कंपनियां आज भारतीय शेयर बाजार की लिस्टेड कंपनि‍यां हैं। अंबुजा सीमेंट का मार्केट कैप 70 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा है। एसीसी का मार्केट कैम 40 हजार करोड़ से अधिक है।

रेगुलेटरी अप्रूवल मिलने  बाद

भले ही अडानी ग्रुप और होल्सिम के बीच भारत की दो सीमेंट कंपनियों का खरीदने को लेकर  अधिग्रहण हो गया हो  लेकिन अभी इस अधिग्रहण के लिए रेगुलेटरी अप्रूवल मिलना बाकी है। रेगुलेटरी के अप्रूवल मिलते ही यह अधिग्रहण पूरा हो जाएगा। होल्सिम की अंबुजा सीमेंट में और एसीसी में हिस्‍सेदारी और ओपन ऑफर कंसीडरेशन की वैल्यू 10.5 अरब डालर है।

शेयर बाजार की लिस्टेड है दोनों कंपनियां

भारतीय शेयर बाजार में अंबुजा सीमेंट और एसीसी लिमिटेड लिस्टेड कंपनि‍यां हैं. अंबुजा सीमेंट का मार्केट कैप 70 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा है. होल्सिम के पास कंपनी का 63.19 फीसदी हिस्सा है. वहीं एसीसी का मार्केट कैप 40 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा है, जिसमें होल्सिम की हिस्‍सेदारी 54.53 फीसदी है. भारत में होल्सिम ग्रुप करीब 17 साल से कारोबार कर रहा है. डील के बाद अडानी ग्रुप चेयरमैन गौतम अडानी ने कहा कि सीमेंट कारोबार में हमारा कदम देश की विकास गाथा में हमारे विश्वास का एक और प्रमाण है. भारत में होल्सिम की सीमेंट कंपनियों को हमारी ग्रीन एनर्जी और लॉजिस्टिक्स के साथ मिलाने से ये हमें दुनिया की सबसे ज्यादा हरित सीमेंट कंपनी बना देगी।

अंबुजा, एसीसी को मिलने का बाद भी अल्ट्रा टेक का है सबसे ज्यादा उत्पादन क्षमता

अगर अंबुजा सीमेंट्स और एसीसी को मिला दें तो संयुक्त रूप से 70 Million Tonnes Per Annum (MTPA) स्थापित उत्पादन क्षमता है। इन कंपनियों के पास कंस्‍ट्रक्‍शन और सप्‍लाई चेन काफी मजबूत है और  इनके पास भारत में 23 सीमेंट प्‍लांट्स, 14 पीसने वाले स्टेशनों, 80 तैयार-मिश्रण कंक्रीट प्‍लांट और 50,000 से  ज्यादा चैनल पार्टनर हैं। इसके अलावा आदित्य बिड़ला ग्रुप की अल्ट्रा टेक सीमेंट इन दोंनों कंपनियों से देश की सबसे बड़ी कंपनी है। इसकी सालाना क्षमता 119 मिलियन मीट्रिक टन है। अगर देश में सीमेंट खपत पर नजर डालें  तो यह 242 किलोग्राम प्रति व्यक्ति है, जबकि ग्‍लोबल स्तर पर औसतन 525 किलोग्राम प्रति व्यक्ति हैं। इस हिसाब से भारत में सीमेंट क्षेत्र के विकास की काफी संभावनाएं हैं।

2005 में भारत में आई होल्सिम का विश्व के 60 देशों में फैला कारोबार

डील पूरा होती है होल्सिम देश के कारोबार खत्म करे देगी। यह कंपनीय ऐसे समय कारोबार खत्म कर रही है, जबकि देश में अभी भी लाखों कच्चे और आधे-पक्के घर हैं। 2005 में भारत में आई स्विस कंपनी होल्सिम की दुनिया के 60 देशों में अपना कारोबार  कर रही है। होल्सिम के इंडियन ऑपरेशन्स ग्लोबल सीमेंट कैपेसिटी के 24% और सेल्स के 27% को रिप्रजेंट करता है। फिलहाल अब कंपनी सीमेंट उद्योग के कारोबार से दूर जाना चाहती है। होल्सिम का ध्यान बिल्डिंग टेक्नोलॉजी पर है और  2025 तक सॉल्यूशन्स और प्रोडक्ट सेगमेंट में नेट सेल्स को 30% पहुंचाना चाहती है। फिलहाल अभी यह13% है।

यह भी पढ़ें:

अडाणी ग्रुप के इस शेयर ने 4 महीने में डबल कर दी निवेशकों की रकम, This Share of Adani Group Doubled The Amount

 

ये पढ़ें:  कच्चे तेल के बढ़े भाव के बीच पेट्रोल डीजल के नए रेट्स जारी, जानें क्या है आपके शहर में दाम

ये पढ़ें: दिल्ली एनसीआर सहित कई शहरों में बढ़े CNG दाम, नई दरें आज से लागू, जानें अब नई कीमतें

Connect With Us: Twitter | Facebook Youtube
SHARE
Koo bird

MOST POPULAR