Monday, May 23, 2022
Monday, May 23, 2022
HomeBusinessकेजरीवाल ने पब्लिक ट्रांसपोर्ट में दिल्ली विस्फोटक स्थिति पर लाकर किया खड़ा:...

केजरीवाल ने पब्लिक ट्रांसपोर्ट में दिल्ली विस्फोटक स्थिति पर लाकर किया खड़ा: भाजपा, Politics On DCT Bus

इंडिया न्यूज,नई दिल्ली। 

DTC बसों पर विगत कई महीनों से दिल्ली की सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच चल रही आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति खत्म होने का नाम नहीं ही है। एक बार फिर डीटीसी बसों के मामले पर भाजपा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा है। भाजपा का कहना है कि सरकार दिल्ली में पब्लिक ट्रांसपोर्ट सुधारने के नाम पर जनता को धोखा देने और एक विस्फोटक स्थिति के मुहाने पर लाकर खड़ा कर दिया है।

25 फीसदी बसें सड़कों से हटाई जा चुकी

विधानसभा नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने गुरुवार को आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि राजधानी दिल्ली में 2013-14 में जब केजरीवाल की सरकार आई थी, तब दिल्ली में डीटीसी बेड़े में 5,223 बसें थीं। अब 2022 चल रह है और सत्ता में केजरीवाल की ही सरकार है तो यह संख्या घटकर 3,762 रह गई है। बल्कि 2644 बसें ऐसी हैं जो अपनी 12 साल की उम्र भी पूरी कर चुकी हैं। इन सालों में करीब 25 फीसदी से ज्यादा बसें दिल्ली की सकड़ों से हट चुकी हैं।

दिल्ली की सड़कों पर दौड़ रही प्राइवेट बसें

उन्होंने कहा कि 1118 बसें भी जल्दी ही अपनी उम्र पूरी करने वाली हैं। इन बसों को सड़कों पर चलाना इतना खतरनाक हो चुका है कि आए दिन इनमें आग लग रही है। मुख्यमंत्री केजरीवाल और उनके मंत्री दिल्ली की जनता को भ्रम में डालते हुए कह रहे हैं कि हमने दिल्ली में बसों का बेड़ा 7 हजार से ऊपर कर दिया है, जबकि सच्चाई यह है कि जितनी भी नई बसें सड़कों पर आ रही हैं, वे सभी प्राइवेट ऑपरेटरों की बसें हैं।

7 वर्षों में आई 2 बसें

बिधूड़ी ने कहा कि 2020 में आम आदमी पार्टी ने अपने मेनिफेस्टो में कहा था कि दिल्ली की सड़कों पर 11 हजार बसें लाई जाएंगी, लेकिन पिछले सात सालों में डीटीसी की सिर्फ दो इलेक्ट्रिक बसें आई हैं।  डीटीसी में सात सालों में डीटीसी की नई बसें न आने के बावजूद डीटीसी का घाटा बढ़कर 2 हजार करोड़ रुपए सालाना हो गया है।

गलत नीतियों ने बैठाया पब्लिक ट्रांसपोर्ट का भट्ठा (Politics On DCT Bus)

उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार की गलत नीतियों के कारण दिल्ली में पब्लिक ट्रांसपोर्ट का भट्ठा बैठ गया है और लोग प्राइवेट गाड़ियां चलाने पर मजबूर हैं, जिससे दिल्ली प्रदूषण की मार सहने पर मजबूर है।

Also Read : प्रधानमंत्री संग्रहालय आने वाले पीढ़ियों को निर्णय लेने में करेगा मदद: मोदी, Prime Minister’s Museum inaugurated

Also Read : 20 इलेक्ट्रिक स्कूटरों में एक साथ लगी आग, आखिर क्यों ईवी में आग के केस आ रहे सामने

Also Read : Hariom Pipe Industries के शेयरों की धमाकेदार एंट्री, 40 फीसदी प्रीमियम पर हुए लिस्ट

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE

MOST POPULAR