Monday, May 23, 2022
Monday, May 23, 2022
HomeBusinessअडानी समूह ने की देश की सबसे बड़ी समुद्री सेवा कंपनी ओएसएल...

अडानी समूह ने की देश की सबसे बड़ी समुद्री सेवा कंपनी ओएसएल का अधिग्रहण, समुद्री सेवा में रखा कदम, जानें कितने की हुई डील?

इंडिया न्यूज,नई दिल्ली। 

अडानी समूह की कंपनी अब अन्य उद्योग के क्षेत्र में कदम रखने के बाद अब समुद्री सेवा कारोबार में कदम रखने का मान बनाया है। इसके लिए अडानी पोर्ट्स ऐंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन्स (एपीएसईजेड) लिमिटेड की सहयोगी अडानी हार्बर सर्विसेस ने (Adani Group Acquires) ओशन स्पार्कल लिमिटेड (ओएसएल) कंपनी के साथ एक अधिग्रहण किया है। अडानी हार्बर सर्विसेस ने ओएसएल को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष अधिग्रहण करेगी। इसके लिए अडानी ओएसएल को 1.530 हजार करोड़ का भुगतान करेगी। ओएसएल समुद्री सेवा पर काम करने वाली कंपनी है।

डील कंपनी को ले जाएगी आगे

इस अधिग्रहण यानी डील पर एपीएसईजेड के सीईओ और पूर्णकालिक निदेशक करण अडाणी ने कहा कि यह डील भविष्य में कंपनी को काफी आगे ले जाएगी।

ओएसएल की वैल्यू 1,700 करोड़ रुपए

कंपनी ओर से एक बयान में कहा कि ‘‘स्वयं के 94 पोतों और थर्ड पार्टी स्वामित्व वाले 13 पोतों के साथ ओएसएल बाजार में अगुवा है। ओएसएल का उद्यम मूल्य 1,700 करोड़ रुपये है। अडानी समूह ओएसएल में 75.69 प्रतिशत हिस्सेदारी के प्रत्यक्ष अधिग्रहण के लिए 1,135.30 करोड़ रुपये का भुगतान करेगा और 24.31 प्रतिशत हिस्सेदारी के अप्रत्यक्ष अधिग्रहण के लिए 394.87 करोड़ रुपये का भुगतान करेगा।

डील से समुद्री सेवा बाजार में होगा हिस्सेदारी का इजाफा

वहीं, एपीएसईजेड के सीईओ और पूर्णकालिक निदेशक अडाणी ने कहा कि ओएसएल और अडानी हार्बर सर्विसेज के तालमेल को देखते हुए कहा जा सकता है कि मार्जिन में सुधार के साथ अगले पांच साल में कॉन्सॉलिडेटेड बिजनेस डबल हो सकता है।  इससे APSEZ के शेयरहोल्डर्स के लिए काफी फायदा मिलेगा। उन्होंने कहा कि इस डील के पूरे होते ही भारत के समुद्री सेवा बाजार में अडानी हार्बर सर्विसेस की हिस्सेदारी में इजाफा होगा। साथ ही, विदेशों अपनी उपस्थिति दर्ज करवाने के लिए एक प्लेटफॉर्म मिलेगा।

ओशन स्पार्कल की स्थापना 1995 में हुई

ओशन स्पार्कल भारत में व्यापक बंदरगाह संचालन और प्रबंधन क्षेत्र में एक अग्रणी सेवा देने वाली कंपनी है। इसकी स्थापना 1995 में समुद्री टेक्नोक्रेट्स के एक समूह ने की थी। कंपनी  के पास 300 करोड़ रुपये की मुफ्त नकदी के साथ इसका उद्यम मूल्य 1,700 करोड़ रुपये है। भारत के अलावा ओशन स्पार्कल को ओमान, सऊदी अरब, श्रीलंका, कतर, यमन और अफ्रीका में भी कारोबार का संचालन करती है।

ये भी पढ़ें : शेयर बाजार ने लाल रंग से की कारोबार शुरुआत, सेंसेक्स 500 अंक लुढ़का, निफ्टी 17250 के नीचे, मिडप कैप में गिरावट

ये भी पढ़ें : इंफोसिस के बाद अब टाटा स्टील ने भी समेटा रूस से कारोबार, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह?

ये भी पढ़ें : देश ने नई तकनीक में फिनटेक स्पेस में लगाई लंबी छलांग: वैष्णव

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE

MOST POPULAR