Saturday, June 3, 2023
Saturday, June 3, 2023
HomeBusinessBusiness With Job नौकरी के साथ करें फ्रोजन मटर का बिजनेस

Business With Job नौकरी के साथ करें फ्रोजन मटर का बिजनेस

- Advertisement -

Business With Job

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली:
अगर आप नौकरी कर रहे हैं, लेकिन आप साथ में एक्स्ट्रा इनकम करना चाहते हैं और इसके लिए बेस्ट आइडिया है फ्रोजन मटर का बिजनेस। जिसके जरिए आप अच्छी कमाई कर सकते हैं। खास बात ये है कि इस बिजनेस को आप आराम से नौकरी के साथ एक छोटी सी जगह पर कर सकते हैं। इस बिजनेस में आप जितना लागत लगाएंगे उससे 10 गुना ज्यादा होगी कमाई।

आप किसानों से मटर खरीद कर अपना ये बिजनेस शुरू कर सकते हैं। जैसा की आप सभी जानते हैं कि मटर की मांग पूरे साल रहती है। इस बिजनेस में सबसे पहले ढेर सारी मटर खरीद लें आपको कितनी मटर की जरूरत होगी ये इस बात पर निर्भर करेगी कि आप कितना बड़ा बिजनेस करना चाहते हैं। साथ ही आपको बाजार रिसर्च कर के एक अंदाजा लगाना होगा कि साल भर में आप कितनी फ्रोजन मटर बेच सकते हैं।

ऐसे करें शुरूआत

फ्रोजन मटर का बिजनेस आप अपने घर के एक छोटे से कमरे में शुरू कर सकते हैं। हालांकि, बड़े स्तर पर बिजनेस करना चाहते हैं तो 4000 से 5000 वर्ग फुट जगह की जरूरत पड़ेगी। वहीं अगर छोटे स्तर पर बिजनेस शुरू करने पर हरी मटर छीलने के लिए कुछ मजदूरों की जरूरत होगी। बड़े लेबल पर आपको मटर छीलने वाली मशीनों की जरूरत पड़ेगी। इसके अलावा कुछ लाइसेंस की भी जरूरत पड़ेगी।

50-80 फीसदी तक मुनाफा

फ्रोजन मटर का बिजनेस शुरू करने पर कम से कम 50-80 फीसदी तक का मुनाफा मिल सकता है। किसानों से 10 रुपये प्रति किनोग्राम के दर पर हरी मटर खरीद कर सकते हैं। इसमें दो किग्रा हरी मटर में करीब एक किलो दाने निकलते हैं।

इसके साथ ही अगर आपको बाजार में मटर की कीमत 20 रुपये प्रति किलोग्राम से मिलती है तो आप इन मटर के दानों को प्रोसेस कर थोक में 120 रुपये प्रति किलोग्राम के भाव पर बेच सकते हैं। वहीं, अगर आपको फ्रोजन मटर के पैकेट्स को सीधे रिटेल दुकानदारों को बेचते हैं, तो आपको इसका लाभ 200 रुपये प्रति किलोग्राम पैक पर मिल सकता है।

ऐसी बनती है फ्रोजन मटर

फ्रोजन मटर बनाने के लिए सबसे पहले मटर को छीला जाता है। इसे बाद मटर को करीब 90 डिग्री सेंटीग्रेट के तापमान पर उबाला जाता है। फिर मटर के दानों को 3-5 डिग्री सेंटीग्रेट तक ठंडे पानी में डाल दिया जाता है, ताकि इसमें पाए जाने वाले बैक्टीरिया मर जाएं। अगला काम इन मटर को करीब 40 डिग्री तक के तापमान पर रखा जाता है। जिससे की मटर में बर्फ जम जाए, फिर मटर के दानों को अलग-अलग वजन के पैकेट्स में पैक कर बाजार में पहुंचा दिया जाता है।

Read More : FD Interest Rates अगर इन बैंकों में करा रहे एफडी तो ब्याज दरों का रखें ध्यान

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
Koo bird

MOST POPULAR